वेलकम टू कराची बेवकूफी भरी कॉमेडी

0
195

अरशद वारसी , जैकी भगनानी और लॉरेन गोट्टलिब की ‘वेलकम 2 कराची’ इस शुक्रवार सिनेमाघरों में रिलीज़ हो चुकी है। निर्देशक आशीष आर मोहन की फ़िल्म ‘वेलकम 2 कराची’ पाकिस्तान में फंसे दो भारतीयों की कहानी है। ये एक राजनीतिक व्यंग है, जो पाकिस्तान-भारत के संबंधों पर आधारित है। फिल्म की कहानी हॉलीवुड फिल्म ‘डंब एंड डंबर’ से प्रेरित दिखती है। फ़िल्म को लिखा है

फ़िल्म का संगीत जीत गांगुली और रोचक कोहली ने दिया है, जो ठीक-ठाक है। बैकग्राउंड स्कोर कई जगह शोर मचाता है। ‘वेलकम 2 कराची’ एक एवरेज फ़िल्म है.

अगर आप ‘वेलकम टू कराची’ देखने से पहले अपना दिमाग़ घर पर छोड़कर नहीं गए, तो आपका दिमाग़ चीख़-चीख़कर, बार-बार सिर्फ़ एक सरल सा सवाल करेगा- ‘वेलकम टू कराची’ जैसी फिल्में क्यों बनती हैं?

फ़िल्म की कहानी दो दास्तों शम्मी ठाकुर (अरशद वारसी) और केदार पटेल (जैकी भगनानी) गुजरात में रहते हैं और दलीप ताहिल के लिए काम करते हैं जो बोट को शादियों को लिए किराए पर देता है. केदार का ख्वाहिश अमेरिका जाने की है मगर उसे कभी वीज़ा नहीं मिलता. एक दुर्घटना में दोनों की बोट डूब जाती है और दोनों पहुंच जाते हैं कराची. बाक़ी पूरी फिल्म पाकिस्तान में घटती बेवकूफ़ी से भरी घटनाओं की है

 

loading...