एक शख्स को डॉक्टर की गलती से 43 साल व्हीलचेयर पर बिताने पड़े, जानिए

0
493

एक स्थानीय समाचारपत्र के अनुसार रुफीनो बोरेगो जब 13 साल का था तो डॉक्टरों ने उसे मस्क्युलर डिस्ट्रॉफी की असाध्य बीमारी से पीड़ित बताया।

इस बीमारी में शरीर की मांसपेशियां कमजोर पड़ जाती है जिसके चलते इंसान चलने-फिरने में असमर्थ हो जाता है। चूकिं डॉक्टर ने इसे लाइलाज बीमारी बताया इसलिए रुफीनो बोरेगो ने इसे अपनी किस्मत मानकर स्वीकार कर लिया।

इस गलत जांच के चलते चार दशक से अधिक समय तक इस शख्स को व्हीलचेयर पर बिताना पड़ा लेकिन 2010 में एक न्यूरोलॉजिस्ट ने देखकर बताया कि वह दरअसल एक अन्य बीमारी मायस्थेनिया से पीड़ित है और उसमें भी मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं।

लेकिन कहा जा रहा है कि मायस्थेनिया नामक बीमारी के बारे में चिकित्सकों को 1960 में ज्यादा जानकारी नहीं थी।

loading...